Saturday, 5 November 2016

शहीदों की कुर्बानी का कारोबार करने वाली सरकार कहां है सैनिक ‘दानिश खान’ की शहादत पर

बूढ़े बाप की आँखों में आंसू थे। साथ में गर्व भी। गर्व के साथ उनके चेहरे से दुःख के आसार झलक रहे थे। एक अन्याय हो रहा था। कोई हमेशा के लिए रुखसत हो रहा था। जवान बेटा ऑन ड्यूटी देश के लिए क़ुर्बान हो गया। पर किसे फ़र्क़ पड़ता है, क्योंकि वो मुस्लिम था।
केन्द्र की बीजेपी सरकार शहीदों के नाम पर राजनीतिक रोटियां सेंक रही है। सरकार शहीदों को भी हिन्दू-मुसलमान के चश्में से देख रही है। इसका उदाहरण हैं 2 नवम्बर 2016 को कश्मीर बाॅर्डर पर दिन के 12 बजे अपने अधिनस्त रिक्रूटों के साथ दुश्मनों का मुकाबला करते हुए आजमगढ़ मण्डल घोसी के रहने वाले रजीउद्दीन दानिश खान ने अपनी जान की कुर्बानी दे दी। और तिरगें में लिपट कर अपने घर आए, लेकिन दानिश का दुर्भाग्य कि वो एक मुसलमान सैनिक था और सत्तारूढ़ सरकार का मुसलमानों के साथ जैसा व्यवहार होना चाहिए था, सरकार ने बिल्कुल वो ही किया। दानिश के जनाजे में ना सरकार का कोई मंत्री, ना प्रतिनिधी, ना शहर का डीएम, ना एस एस पी। कोई नहीं दिखा। क्योंकि एक मुस्लिम शहिद के जनाज़े में सरकार या उसके अफसरों और नुमाइन्दगों की कोई दिलचस्पी नहीं हैं।
आपको बता दे कि दानिश अपने घर मे सबसे बड़े थे और आजमगढ़ के शिबली कॉलेज से पढ़ने के बाद मुल्क की खिदमत करने के लिए फौज मे शामिल हो गए। अभी 8 महीना पहले ही इनकी शादी हुई थी। इनसे छोटे दो भाई और हैं जिसमे एक यू पी पुलिस मे है तो दूसरा इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है। दानिश के जनाज़े के वक्त उसके वालिद के चहरे पे फख्र के साथ बेबसी भी थी।
दानिश खान की शहादत में मीडिया ने भी अपनी दिलचस्पी नहीं दिखाई और जब स्थानीय मीडियाकर्मियों को इस बात का पता चला तो वह दानिश के पिता से पुछने आए कि क्या आपका बेटा शहीद माना जाएगा? यह सुनते उनका सर चकरा गया। इतना शर्मनाक सवाल, शहीद दानिश खान के पिता ने मीडिया वालों को जवाब में कहा-मेरे बेटे को क्या कहा जायेगा, क्या नही, मुझे नही पता, मैं सिर्फ इतना जानता हूँ बेटा मेरा 13 साल से देश की सेवा कर रहा था। देश की सेवा में कुर्बान हो गया। इससे ज्यादा मुझे कुछ नही चाहिए। बाकी अन्याय हमारी किस्मत है।
सैनिक का कोई धर्म नहीं होता अब यही सरकार सैनिकों की शहादत पर धर्म के हिसाब से तव्वजों दे रही हैं। अगर ये शव किसी रामसिंह, या कृष्णप्रसाद का होता तो अब तक सरकार की तरफ से लाखों रूपये के मुआवजे का ऐलाना हो चुका होता लेकिन यहां एक सैनिक का दुर्भाग्य है कि उसका नाम दानिश खान है।

News Reference- http://www.jantakareporter.com/blog/danish-khan/73560/  

Wednesday, 2 November 2016

समाजवादी जनता पार्टी (चंद्रशेखर) के प्रांतीय अध्यक्ष श्री आरपी शर्मा जी के सहयोग द्वारा " आचार्य नरेंद्र देव ,पटेल और इंदिरा हमारे देश की धरोहर " के स्मृति में संगोष्ठी का आयोजन

समाजवादी जनता पार्टी (चंद्रशेखर) के प्रांतीय अध्यक्ष श्री आरपी शर्मा जी के सहयोग द्वारा " आचार्य नरेंद्र देव ,पटेल और इंदिरा हमारे देश की धरोहर " के स्मृति में संगोष्ठी का आयोजन किया गया
रुआबांधा में देश के तीन प्रमुख नेताओं की स्मृति में हुआ आयोजन
भिलाई। लोकनायक जयप्रकाश नारायण स्मारक प्रतिष्ठान और आचार्य नरेंद्र देव स्मृति जनअधिकार अभियान समिति के संयुक्त तत्वावधान में समाजवादी जनता पार्टी (चंद्रशेखर) की ओर से देश की तीन प्रमुख विभूतियों की याद में स्मृति सभा का आयोजन रुआबांधा सेक्टर में एचएससीएल कॉलोनी स्थित प्रतिष्ठान में 31 अक्टूबर को किया गया। जिसमें समाजवादी विचारधारा से जुड़े लोग बड़ी संख्या में जुटे।
मुख्य अतिथि बीएसपी के रिटायर इंजीनियर और समाजसेवी अभयराम तिवारी ने कहा कि आज समाजजवादी विचारक आचार्य नरेंद्र देव व देश के पहले उपप्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती और भूतपूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि है। वास्तव में ये तमाम विभूतियां किसी राजनीतिक दल के प्रतिनिधि नहीं बल्कि देश की धरोहर हैं। श्री तिवारी ने कहा कि देश के दो शीर्षस्थ विश्वविद्यालयों के कुलपति रहे आचार्य नरेंद्र देव को आजादी के बाद समाजवादी विचारधारा को फलीभूत करने का श्रेय जाता है और सरदार पटेल ने देश के एकीकरण में जो योगदान दिया वह किसी से छिपा नहीं है। वहीं प्रधानमंत्री के तौर पर इंदिरा गांधी ने अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति का परिचय दिया।
समाजवादी जनता पार्टी (चंद्रशेखर) के प्रांतीय अध्यक्ष आरपी शर्मा ने कहा कि आज देश शब्दों के मायाजाल में फंसाया जा रहा है लेकिन देश आगे बढ़ेगा तो सिर्फ और सिर्फ समाजवादी विचारधारा से ही। समाजवादी विचारक अब्दुल फरीद ने कहा कि केंद्र की नीतियों के चलते आज देश का नौजवान सबसे ज्यादा हताश है। ऐसे समय में आचार्य नरेंद्र देव, सरदार पटेल और इंदिरा गांधी की नीतियां ही हमें रास्ता दिखाएगी। इस अवसर पर एसएन प्रसाद, त्रिभुवन मिश्रा, हरगुण राम, विकास गिरी, अशोक निखाले, विजय कुमार, हरि प्रसाद व नियारण सहित अन्य लोग मौजूद थे।







Tuesday, 1 November 2016

समाजवादी जनता पार्टी चंद्रशेखर के कार्यकर्ताओं ने आचार्य नरेंद्र देव की 128 वीं जयन्ती नरेंद्र वाटिका में मनाई और उन्हें श्रदांजलि अर्पित किया ।

आज समाजवादी जनता पार्टी चंद्रशेखर के कार्यकर्ताओं ने आचार्य नरेंद्र देव की 128 वीं जयन्ती नरेंद्र वाटिका में मनाई और उन्हें श्रदांजलि अर्पित किया । आचार्य नरेन्द्रदेव भारत में समाजवाद के जनक के रूप में जाने जाते हैं तथा उनकी सादगी, समाजवाद के प्रति समर्पण और अनुशासित नेतृत्व के साथ भारतीय जनमानस में एक अमिट छाप छोड़ता है और इसके फलस्वरूप आजादी के प्रेरणाश्रोत के रूप में उपस्थित है । उनका व्यक्तित्व और कृतित्व दोनों ही अद्वितीय है जो देश और समाज को दिशा देने में कारगर साबित हो सकती हैं । लोकतंत्र और समाजवाद को भारत में मजबूत करने के लिए आचार्य नरेन्द्रदेव से अनवरत प्रेरणा मिलती रहे । श्री श्याम जी त्रिपाठी राष्ट्रीय महासचिव समाजवादी जनता पार्टी ने अपने विचार प्रेषित किया और कहा कि क्यों समाजवाद आज जरुरी है ।।